Advertisement

मैन जा | एल्बम गीत के बोल | प्रीत सिंह मुल्तानी


मैं जा ज़िद कर न कुड़िये, तनु कुझ केहना नी
इशक़ जड़ पेय मानवे, फेर हसना पैना नी
मैं जा ज़िद कर न कुड़िये ।।।

इशक़ दी ज़ात एही ॅ, हुस्ने दे वारे जावे
प्रीत जग लाग् जांदी ऐ, हशरान तक तोड़ निभावे
मितः जेहा सेक िश्क़ डॉ, निम्मा जेहा सेक इश्क़ द
हस्स के जार लैणा नी
इशक़ जड़ पया मानवे, फेर हसना पैना नी
मैन जा ज़िद कर न कुड़िये ।।।

कथे चल चं नु तककिये, शाला एह रात न मुक्की
टेरी मेरी प्यारन वलि, सांडलि एह बात न मुक्की
टेरे संग जगदे रेहना, तेरे नाल जगदे रेहना
उतना ते बेहना नी
यार जड़ पया मानवे, फेर हसना पैना नी
मैं जा ज़िद कर न कुड़िये ।।।

उमरन डा साथ है सद, फेर नित्त डा रौला कहद
लाद के किते छाड न जविण, कमल नाल कर लाए वद
विछाड के तेरे टन न, वख हो के तेरे टन ना
एक पाल् वि रेहना नाहि
इशक़ जड़ पेय मानव, फेर हसना पैना नी

मानन जा ज़िद कर न कुड़िये, तनु कुझ केहना नी
इशक़ जड़ पया मानवे, तेनू मन न पैना नी
मैन जा ज़िद कर न कुड़िये


Singer(s) Preet Singh Multani
Lyricist(s) Preet Singh Multani
Music(s) Preet Singh Multani



Post a Comment

0 Comments