Advertisement

Free Fire Diwali Lyrics | RITVIZ


बहकी सभी जुबां है
हम है हज़ारो में
आब की कमी ज़रा है
हर चीज़ ख़ास है

कब है जो है वो समां है
तूम रेह सके तोह राबा है
आब है जो है वो समां है

तूम रेह सक
आईसी जीत… अब चाहे ज़िंदगि
आईसी जीत… अब चाहे ज़िंदगि
हि

सेहनी हुमे सजा है
हम है बाज़ारो के
सब की नज़र यहाँ है
हर चीज़ राज़ है

कब है जो है वो समां है
तूम रेह सके तोह राबा है
आब है जो है वो समां है

तूम रेह सक
आईसी जीत… अब चाहे ज़िंदगि
आईसी जीत… अब चाहे ज़िंदगि
है…

आईसी ज़िन्दगी हम… चिप छिपाये
हम न आये आये आये… हम न ाए
आईसी जीत… चिप छिपाये
आईसी जीत… हम न पाए

आईसी ज़िन्दगी… हम चिप छिपाये
हम न आये आये आये… हम न ाए
आईसी जीत… चिप छिपाये
आईसी जीत… हम न पाए

आईसी जीत… न चिप छिपाये
न चिप छिपाये… न चिप छिपाये
आईसी जीत… न चिप छिपाये
न चिप छिपाये… न चिप छिपाये
हाये


Singer(s) RITVIZ
Lyricist(s) RITVIZ
Music(s) RITVIZ



Post a Comment

0 Comments